Baha'is not invited


Religious Leaders in Israel Pray for an End to the Pandemic

A multi-faith prayer was conducted at the Baha'i Gardens in the northern Israeli city of Haifa on earlier this week amid the ongoing coronavirus crisis.
“Upon the request of the Haifa municipalty, a rabbi, a priest, an Imam and the spiritual leader of the Druze community have prayed together for an end to #coronavirus #pandemic,” Israeli Prime Minister Benjamin Netanyahu’s spokesperson to the Arab media, Ofir Gendelman, tweeted on Monday. “That’s part of our joint fight against #COVID19.”
There have been more than 9,000 confirmed cases of the coronavirus in Israel, and at least 60 people have died from it.

Baha'is create a website specifically to act as damage control against the "Baha'is in My Backyard" documentary (bahaisinmybackyard.info)


[–]wahidazal66 5 points  
I am not sure that Naamah Pyritz, one of the co-producers, actually signed off on the documentary being a mockumentary. I communicated with her directly after it aired in OZ and on email, and that view was the farthest thing from her sentiment at the time. Pyritz also indicated that she was frightened of these people and that she would not pursue anything further, like a sequel to the documentary.
It is possible that Naamah and her other producers may have been pressured by the Israeli establishment afterwards given that the concerns they expressed to Frederick Glaysher about the clout of the Baha'is in Israel and the West are very real, legitimate concerns.
Furthermore, for this documentary to have been a mockumentary would entail that Negar Baha'i was a fake, that they were kidding about Moshe Sharon's Hebrew book about Bahaism being a piece of propaganda garbage (since this book denies the existence of Haba's family in occupied Palestine), and that neither Dr. David Kelly or his DIA handler Mia Pederson-Saadat were real people and that the post-Iraq invasion scandal that erupted around them never happened!
This blog is merely engaging in damage control, and because the producers are Israeli, it stands to reason that the Haifans pressured the Israeli establishment to lean on these people to make such a ridiculous public back peddle (if it is even real).
[–]komorikomori[S] 3 points  
Yeah, the "mockumentary" claim seems to run counter to the whole sentiment of the documentary in my opinion, and they don't even address any of the claims in it. They just handwave it all away and poison the well by connecting it to Iran. It's typical Baha'i fundamentalist kneejerkism, and this website's existence clearly shows that the spreading of this documentary has worked and that it has been a real thorn in the side of the Baha'is.
[–]i-Aqdas_Cola 1 point  
Wait a fuckin second. So this damage control website claims the documentary to be a "mocumentary" yet the site itself reads like a satire? WTF?
"....a film which was done with such a light touch"
I spit my drink out laughing so hard at how try-hard this is.
"making fun of the serious investigation we set out to undertake, to prove anything about the Bahais, is more than ridiculous"
That folks is 'Bahai-levels' of convincing.
[–]wahidazal66 1 point  
Indeed, that site must be for internal consumption because no one in their right mind who has watched it and followed the issues around it can come away with the same impression. And it is certainly NOT what at least one of the producers, namely Naamah Pyritz, communicated to me about it in 2007.

Source : https://www.reddit.com/r/realexbahais/comments/g3hcu0/bahais_create_a_website_specifically_to_act_as/

Baha'is want the humanity to suffer!

Our Guardian, Shoghi Effendi, stated that the United States was chosen as the Cradle of the New World Order, not because of its spiritual qualities, but because of its corruption, the same as Persia was chosen for the Revelation of Baha'u'llah because the Persians were worse than the African savages and far more barbaric. 
After the coming calamity the United States will fulfill the prophecy that the United States will suffer, then it will lead all the nations spiritually. He said that he has given up warning the friends, as they paid no heed to either the warnings of Abdu'l-Baha nor to Shoghi Effendi. They must suffer to awaken. 
It is too late to save the world. The Message of Baha'u'llah has been in the world over one hundred years to save mankind, but it has been rejected all over the world. The calamity will be sudden. He spoke of the American statesman from the President down, all are helpless and impotent. The United States is not now an altruistic nation. You help others to help yourselves. 
The Russian submarines will paralyze Great Britain, the United States, Europe, the Atlantic, Pacific and Mediterranean seaboards. The Baha'is have failed with the Negros in the United States. Intermarriage is good, between races. It brings out the best in both races. Americans love money, wives, family, friends, possessions. There is a sad decline in home life, morals, art, music, money, everything.

https://bahai-library.com/wwwboard/messages00/626.html


Analysis of this "pilgrim note" by komorikomori 

I find it really hard to believe that all of these pilgrim's notes about the calamity are fabricated. We have Ruth Moffett attributing such statements to Shoghi Effendi in May-June of 1954, and on a separate pilgrimage, Ramona Brown also recorded them on her pilgrimage in the same year, and Isobel Sabri recorded the same kind of statements in April 1957; all of these people died as pious Baha'is. The reason the statements differ so much is because they are records of different conversations, but Shoghi Effendi conveys the same message. We have three independent, corroborating sources with only one person in between us and Shoghi Effendi, and for Sabri's pilgrim's notes, she was not the only one who witnessed this conversation. She says that Ruhiyyah Khanum and the Hands of the Cause, including Mason Remey, were there. In fact, Mason Remey corroborates this in an article entitled, "The Great Global Catastrophe" (see p. 38) where he explicitly says that he has heard Shoghi Effendi speak of a great calamity, and he also attributes similar statements to Abdu'l-Baha. So, the more I look into this, the more it seems like this is not just a matter of a questionable report here and there, but it's a thread that runs all throughout Baha'ism.

The infallible guardian of the Baha'i Faith died of Virus infection!


https://www.britannica.com/event/Asian-flu-of-1957
He should have known there was an pandemic of this disease before going to London and chosen instead to stay in Haifa and send a Hand of the Cause of God to go there instead. But it seems he was idiotic enough to believe that he was under the "care and protection" of the Bab and Baha'u'llah, so nothing would happen to him. He was wrong......and so is every Baha'i who believes in his "Guardianship".

Some info about the pandemic that killed Shoghi.
https://en.wikipedia.org/wiki/1957%E2%80%9358_influenza_pandemic 
The 1957–58 influenza pandemic, also known as Asian flu, was a global pandemic of influenza A virus subtype H2N2 which originated in Guizhou, China and killed at least 1 million people worldwide. 
https://news-decoder.com/2020/03/05/asian-flu-coronavirus/
I survived the Asian flu.
It is worth noting at the outset, given current concerns about the spreading coronavirus, that the overwhelming majority of my fellow sufferers also recovered from the pandemic that swept the world from 1957 and into the following year. 
Such was the infection rate, however, that by the time the outbreak had run its course and a vaccine had been developed, between two and four million people around the world had died. 
In Britain alone, nine million people caught the bug and 14,000 died of it. At one point, one-in-two schoolchildren in London were off sick. I was one of them.

Source : https://www.reddit.com/r/exbahai/comments/g0qrvg/the_disease_that_killed_shoghi_effendi/

CURSE OF COVID 19 AND OTHER CALAMITIES TO HIT THE HAIFAN BAHA'I WORLD

By Anonymous (via Email)


It has been a few years that we are seeing calamities and disasters befalling at regular intervals. We have seen famines, floods, major fires, volcanoes, earthquakes, wars, diseases and rise of communalism. The present pandemic COVID 19, is recent in series of such calamities.

For a Baha'i, occurrence of such incidences should be a reminder. We, followers of Baha'u'llah, are not deprived of knowledge of the Divine Will. There have been ample prophesies from Baha'u'llah, Abdul Baha and the Guardian of such happenings.

As an example, Baha'u'llah said: “We have a fixed time for you, O people. If ye fail, at the appointed hour, to turn towards God, He, verily, will lay violent hold on you, and will cause grievous afflictions to assail you from every direction. How severe, indeed, is the chastisement with which your Lord will then chastise you!” (Gleanings From the Writings of Bahá’u’lláh, p 214).

Also He warned: “The world is in travail, and its agitation waxeth day by day. Its face is turned towards waywardness and unbelief. Such shall be its plight, that to disclose it now would not be meet and seemly. Its perversity will long continue. And when the appointed hour is come, there shall suddenly appear that which shall cause the limbs of mankind to quake. Then, and only then, will the Divine Standard be unfurled, and the Nightingale of Paradise warble its melody.” (Gleanings From the Writings of Bahá’u’lláh, p118)

These prophesies are unfortunately mis-represented by a majority of the Baha'is (read those who don’t believe in guardianship) to be destruction of old world order, i.e failure of all other faiths in answering to man’s need for peace to an extent that the believers of those faiths out of exasperation would look towards a Universal Faith i.e. the Baha'i Faith (with belief of governance sans Guardian). Nothing can be more distant from the truth, because:
a) There is very little possibility of this realization by people of other religion. As we see, despite such calamities no one is even willing to re-look into their beliefs - rather fanaticism and nationalism is on the rise.
b) The divine prophesies are first meant for those who have access to them for their reflection, and that is all those who proclaim to be Baha'is.

Now, it is very clear that the prophesies are for those who have read the writings and for them to check their beliefs. Indeed a group proclaiming to be Baha'is, working under governance of Universal House of Justice administered by a nine member fallible group, have forsaken the will and testament for submitting to a infallible Guardian. Indeed this group has sabotaged the Faith and is cause for major deviation from the path chosen by Divine decree. Indeed Muslims, Christians, Jews, Hindus and Buddhists are far away from access to these prophecies and cannot be responsible for the situation of the world today. This deviation initiated by a opportunists to gain control of the community has made the world subject to Divine Wrath.

We have seen in history that Divine Wrath befalls on the world whenever a prophet has been dis-obeyed by his nation. The nation of Baha'u'llah, most of them, have forsaken Him and His teachings and has invited Divine Wrath. The events are fore warning and if those who sabotaged the Faith don’t mend their ways, it would progressively lead to their collapse and establishment of a “New Order” under the Guardianship of a Guardian of the Faith. This is the Divine decree, bound to be realized, whether people like or dislike.

We have been advised by Baha'u'llah : “To whatever place We may be banished, however great the tribulation We may suffer, they who are the people of God must, with fixed resolve and perfect confidence, keep their eyes directed towards the Day Spring of Glory, and be busied in whatever may be conducive to the betterment of the world and the education of its peoples. All that hath befallen Us in the past hath advanced the interests of Our Revelation and blazoned its fame; and all that may befall Us in the future will have a like result. Cling ye, with your inmost hearts, to the Cause of God, a Cause that hath been sent down by Him Who is the Ordainer, the All-Wise. We have, with the utmost kindliness and mercy, summoned and directed all peoples and nations to that which shall truly profit them.” (Gleanings From the Writings of Bahá’u’lláh, p270)

Truth will prevail ultimately.

बहाई धर्म के बारे में, कुछ कम-ज्ञात तथ्य (Hindi)

लेखक - पूनम शर्मा - ईमेल द्वारा


बहाई धर्म का जन्म, सन 1863 में, इराक के बगदाद शहर में हुआ, जब बहाउल्लाह ने रिदवान के बगीचे में अपने कुछ निकट साथियों से अपने ईश्वरीय अवतार होने की घोषणा की।

अपनी उद्घोषणा से पहले, बहाउल्लाह, बाबी धर्म के अनुयायी थे। बाबी धर्म की स्थापना सन 1844 में मिर्ज़ा अली-मोहम्मद शिराज़ी ने ईरान में की थी।

बाबी धर्म के संस्थापक, बाब, शेख अहमद अहसाई के अनुयायी थे। शेख अहमद अहसाई सऊदी अरब के अल-अहसा शहर के रहनेवाले थे, जो ईरान आए और वहीं बस गए।

शेख अहमद एक अख़बारी शीया मुसलमान थे, लेकिन उनकी विचारधाराएँ मुख्यधारा के अखबारी शीया मुसलमानों से अलग थी। उनकी विचारधाराओं का पालन करनेवाले समूह को शैखी कहा जाता था। बाबी धर्म के संस्थापक शैखी थे।

शैखी सम्प्रदाय के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने हेतु यहाँ क्लिक करें।
http://www.iranicaonline.org/articles/shaykhism

आइए हम फिर से बहाई धर्म के विषय पर चर्चा करते हैं।

बाबीयों का मानना था की सारे ईरान को बाबी हो जाना चाहीये, बाबी मानते थे की बाब मुसलमानों के इमाम मेहदी हैं। वे यह भी मानते थे की हर उस व्यक्ति को जान से मार देना चाहीये जो बाब को इश्वर का अवतार नहीं मानता। बाबीयों का यह भी मानना था की सारी ग़ैर-बाबी पुस्तकों को जला देना चाहीये और करबला में इमाम हुसैन की समाधी और मक्का में काबा सहित, सभी धार्मिक स्थलों को नष्ट कर देना चाहीये।

अपने धर्म को ईरान में स्थापित करने हेतु, 1848 से 1850 की कालावधी में, बाबीयों ने ईरानी सरकार के खिलाफ 3 लड़ाईयाँ लड़ी, जिसकी वजह से कई बाबीयों की और ईरानी सैनिकों की प्राणहानी हुईं।

1850 में, सरकार के आदेशानुसार, बाब को सार्वजनिक रूप से, तबरीज़ के एक प्रसिद्ध चौक पर लाकर, गोली मार दी गई।

1852 में कुछ बाबियों ने ईरान के शाह से बदला लेने के लिए उनको मारने की कोशिश की। परिणामस्वरूप कई बाबीयों को पकड़ कर कैद कर दिया गया और कई बाबीयों को मार दिया गया।

अपने वसीयतनामे में बाब ने मिर्ज़ा याहया सुब्हे अज़ल को अपना उत्तराधिकारी और अपना प्रतिबिंब नियुक्त किया था। मिर्ज़ा याहया, बहाउल्लाह के छोटे भाई थे और वे बहुत ही सरल व्यक्ति थे।

बाबीयों के अपराधों के कारण, बहाउल्लाह, जो की एक बाबी थे, उनको भी पकड़ कर क़ैद कर दिया गया। 1853 में रूस के राजदूत के अनुरोध और मध्यस्थता के कारण बहाउल्लाह और उनके साथीयों को छोड़ दिया गया और उनसे इराक जाने को कहा गया।

1853 में ही बहाउल्लाह बगदाद पहुँच गए थे। मिर्ज़ा याहया भी बगदाद आ गए थे। बगदाद में बाबीयों के नेतृत्व को लेकर दोनो भाईयों में मतभेद शुरू हो गए। मिर्ज़ा याहया, सुबहे अज़ल एक सीधे-साधे व्यक्ति थे पर बहाउल्लाह अत्यंत चतुर थे। बाबीयों को संचालित करना बहाउल्लाह के लिए आसान काम था, क्यूँ की उनकी चतुरता के कारण बढ़ती संख्या में बाबी उन्हें अपना धार्मिक नेता स्विकार करने तैयार थे।

नेतृत्वता को लेकर दोनो भाईयों के बीच मतभेद बढ़ते चले गए। बाबी दो गुटों में बट गए। एक गुट मिर्ज़ा याहया के साथ हो गया और एक गुट बहाउल्लाह के साथ। दोनो गुट एक दूसरे को काफ़िर मानते थे।

अंततः, नेतृत्वता की इस लड़ाई में बहाउल्लाह की जीत हो गई। बहाउल्लाह के माननेवाले, बहाई कहलाने लगे और मिर्ज़ा याहया - सुबहे अज़ल के माननेवाले अज़ली कहलाए जाने लगे। बहाईयों और अज़लीयों के संघर्ष में कई अज़लीयों की जान चली गई।

इस बढ़ते संघर्ष के कारण बहाउल्लाह को एक देश से दूसरे देश और दूसरे देश से तीसरे देश भेजा गया। अंततः, बहाउल्लाह फिलस्तीन आ गए, जहाँ उस्मानी खिलाफत का राज चलता था। बहाउल्लाह और उनके बेटे अब्दुल-बहा फिलस्तीन में मुसलमानों की तरह जीवन बिताने लगे। वे मस्जिद जाते, नमाज़ पढ़ते, रमज़ान के महीने में रोज़े रखते और उनके घर की महीलाएँ हिजाब पहनतीं। अकसर फिलस्तीनी उनको मुसलमान समझते।

1892 में बहाउल्लाह को एक मामूली बुखार आया जो अगले दिनों में लगातार बढ़ता गया, और फिर अंत में 29 मई को उनकी मृत्यु हो गई। 74 बरस की उम्र में, मृत्यु के समय, बहाउल्लाह की तीन पत्नियाँ थीं और उनके 14 बच्चे थे।

बहाउल्लाह के सबसे बड़े पुत्र अब्दुल-बहा के फिलस्तीन में सभी धार्मिक नेताओं और बड़े लोगों के साथ अच्छे संबंध थे, विशेषतः यहूदीयों और ज़ायनिस्ट अंग्रेज़ों के साथ। सन 1920 में, पहले विश्व-युद्ध के खत्म होने के बाद, अंग्रेज़ों ने अब्दुल-बहा को अपने प्रति उनकी सेवा, सहाय और सलाह के लिए 'नाइट' की पदवी प्रदान की।

धीरे-धीरे अब्दुल-बहा और उनके माननेवाले शक्तिशाली होते गए। वे लोग फिलस्तीन में बड़ी-बड़ी ज़मीनें और बंगले खरीदने लगे।

अपने वसीयतनामे में, बहाउल्लाह ने अपने दूसरे सुपुत्र - मिर्ज़ा मोहम्मद अली, जिनको बहाउल्लाह ने 'घुस्ने अकबर' की पदवी दी थी, को अब्दुल-बहा के बाद, अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था।

अब्दुल-बहा और उनकी सगी बहन, बहीये खानुम, का बरताव अपने सौतेले भाईयों के साथ अच्छा नहीं था। मिर्ज़ा मोहम्मद अली और उनके सगे भाई, बदीउल्लाह और दियाउल्लाह, यह तीनों बहाउल्लाह की दूसरी पत्नि फातिमा खानुम की सन्तान थीं। अब्दुल-बहा और बहीये खानुम बहाउल्लाह की पहली पत्नी से थे। बढ़ते दुर्व्यवहार के कारण, अब्दुल-बहा और मिर्ज़ा मोहम्मद अली के संबंध खराब होने लगे।

अब्दुल-बहा का सौतेलापन और दुर्व्यवहार और अपने-आप को बहाउल्लाह की जगह पर समझना, मिर्ज़ा मोहम्मद अली और उनके सगे भाईयों को कभी नहीं भाता। अब्दुल-बहा का अपने पिताजी के सहयोगी, खादिमुल्लाह, जो 40 साल तक बहाउल्लाह की सेवा में रहे और उनकी वाणी लिखते रहे, को थप्पड़ मारना कतई नहीं भाता। मिर्ज़ा मोहम्मद अली का मानना था कि उनके पिता बहाउल्लाह, एक इश्वरीय अवतार थे, पर अब्दुल-बहा एक आम मनुष्य की तरह हैं। वे बहा के सेवक है और इसके सिवा कुछ नहीं!

अब्दुल-बहा और उनके सौंतेले भाईयों के बीच दूरीयाँ बढ़ती चली गईं। अंततः अब्दुल-बहा ने अपने तीनो भाईयों को संविदा-भक्षक घोषित कर दिया और उनके हिस्से की सम्पत्ति को हड़प लिया। बहाउल्लाह के आदेशानुसार, मिर्ज़ा मोहम्मद अली को बहाई समुदाय का उत्तराधिकारी होना था, पर अब्दुल-बहा ने उन्हे बहिष्कृत कर, धर्म के बाहर निकाल दिया।

इस झगड़े के बारे में अधिक जानकारी हेतू यह वेबसाईट चेक करें।
http://www.abdulbahasfamily.org/

सन 1921 में अब्दुल-बहा की मृत्यु हो गई और उन्हे इस्लामी विधीविधान के अनुसार, फिलस्तीन के हाईफ़ा शहर में दफ़न कर दिया गया। उनके अंतिम संस्कार में कई धार्मिक हस्तियां और अंग्रेज़ी जनरल शामिल हुए।

अपने वसीयतनामें में अब्दुल-बहा ने अपने सबसे बड़े नाती, शोगी एफेन्दी, को धर्म-संरक्षक नियुक्त किया, और अपनी वसीयत में यह भी लिख दिया कि शोगी एफेन्दी के पश्चात शोगी की पहली सन्तान उनकी उत्तराधिकारी होगी। पर शोगी एफेन्दी नि:संतान ही इस दुनिया से चले गए।

अपनी मृत्यु से पहले, शोगी एफेन्दी ने अपने सभी रिश्तेदारों, भाई-बहनों यहाँ तक की अपने सगे माता-पिता को भी धर्म से बाहर कर दिया।

अब्दुल-बहा ने अपनी वसीय्यत में स्पष्ट रूप से यह लिख दिया था कि बहाई युगधर्म की सुरक्षा के लिए हर युग में धर्म-संरक्षक का होना अनिवार्य है, और धर्म-संरक्षक ही विश्व न्याय मंदिर के स्थायी प्रमुख है।

शोगी एफेन्दी अपनी एक पुस्तक, बहाउल्लाह की विश्व व्यवस्था में लिखते हैं कि – यदि यह विश्व व्यवस्था धर्म-संरक्षक से वियुक्त हो जाएगी तो विकृत हो जाएगी। बहाई लेखनों से यह भी स्पष्ट होता है कि यदि विश्व न्याय मंदिर का कोई सदस्य गलत काम करता है तो धर्म-संरक्षक ही उसे बाहर कर सकता है, यह भी लिखा है कि संविदा-भक्षक को केवल धर्म-संरक्षक की बहिष्कृत कर सकता है।

आज, बहाई धर्म का कोई संरक्षक जीवित नहीं है। बहाई धर्म के बुरे हाल है। कुछ लोग इस धर्म में ज़रूर शामिल हो रहे हैं, परंतु कई लोग इसे छोड़ कर अपने पिछले धर्म की ओर पलट रहे हैं। एक समय था जब भारत में 10 हज़ार से अधिक बहाई रहते थे, आज केवल 5 हज़ार रह गये हैं। बहाईयों की जनसंख्या के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

http://bahaicensusindia.blogspot.com/

बहाई धर्म की शिकस्त के कुछ और भी कारण हैं।

आईये दोस्तों, अब हम उन कारणों के बारे में जानते हैं।

1) महिलाओं को विश्व न्याय मंदिर में सेवा करने की अनुमति नहीं है। इसलिए स्त्री-पुरुष समानता का नारा झूठा है।

2) बहाई धर्मिय एक 'बहाई राज्य' स्थापित करने में जुटे हैं। एक एसा महा-राज्य जिसपर विश्व न्याय मंदिर, इज़राईल के हाईफा शहर से राज करेगा।

3) बहाई धर्मियों को नफरत का पाठ सिखाया जाता है, वे संविदा-भक्षकों से घृणा करते है।

4) बहाई धर्मियों ने तथाकथित संविदा-भक्षकों को सताया है, उन्होंने दीयाउल्लाह, जो बहाउल्लाह के सुपुत्र थे और उनके निकट दफन थे, की कब्र को खोल कर, उनके अवशेषों को निकाल कर किसी और जगह दफन कर दिया।

5) बहाईयों में लगभग 15 संप्रदाय हैं।

6) बहाई धर्मियोने अपने धार्मिक पाठ को कॉपीराइट और धार्मिक चिन्हों को ट्रेडमार्क करा रखा है।

7) बहाई धर्मिय कुछ अज्ञात कारणोंवश इज़राइल देश को छोड़कर, हर देश में अपने 'धर्म का प्रचार' करते हैं!

8) बहाई धर्मिय अपनी आबादी के बारे में झूठ बोलते हैं, वे भारत में अपनी आबादी 1.8 मिलियन से अधिक होने का दावा करते हैं, जबकि 2011 की सरकार की जनगणना से पता चलता है कि उनकी संख्या केवल 4572 है।

9) बहाई धर्मिय पश्चिमी देश के नागिरकों के लिए और भारतीयों के लिए भी, बहुत सतर्कता से कुछ ही धार्मिक लेखनों का चयन करके उनकाही अनुवाद करते हैं। बहाई धर्म में भारी सेंसरशिप है।

10) बहाई धर्म में, इन्डिपेंडेंट स्कॉलरशिप की कोई कल्पना नहीं, सभी बहाई पुस्तकों को प्रकाशन से पहले राष्ट्रीय आध्यात्मिक सभा की रीव्यू कमिटी द्वारा अनुमोदित करना आवश्यक होता है।

11) बहाईयों का मानना है कि सभी पिछले धर्म भ्रष्ट हो गए हैं और अब इन धर्मों में प्राण नहीं। उनका मानना है कि हर धर्म की आयु 1000 साल की होती है, परंतु बहाई धर्म की आयु 5 लाख साल की है। धर्मों की एकता जैसा कुछ नहीं है - उनका मानना है कि उनका धर्म अन्य सभी धर्मों से श्रेष्ठ है।

12) बहाईयों का मानना है कि बहाउल्लाह सभी पैगम्बरों, अवतारों के प्रकट करनेवाले, और सभी पवित्र पुस्तकों के भेजनेवाले हैं। वे खुदाओं के खुदा है!

13) बहाई धर्मिय मानते हैं कि उनकी सर्वोच्च संस्था, विश्व न्याय मंदिर, अचूक है, वे इसे 'ईश्वर की नाव' कहते हैं!

14) बहाई धर्म-संरक्षक शोगी एफेन्दी एक समलैंगिक थे, वे बहाईयों के पैसे खर्च करके महीनों स्विट्जरलैंड की पहाड़ियों में समय बिताते थे।

मित्रों,

मैंने बहाईयों को काफी निकट से देखा है, उनकी पुस्तकें पढ़ीं है, और उनकी कार्यप्रणाली से बखूबी परिचित हूँ। मैं आपसे अनुरोध करती हूँ की आप अपने अमूल्य जीवन का खयाल रखें, और ऐसे नये धर्मों को पसंद करने, और इनमें अपना समय लगाने से पहले थोड़ी रीसर्च कर लें।

अपना ध्यान रखिए, और लुटेरों से सावधान रहिए।

जय हिंद।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Baha'i Texts

Popular Posts

Total Pageviews

Followers

Blog Archive

OnThisDateInBaha'i